महावेध मुद्रा के अभ्यास से पाएं भगन्दर रोग से मुक्ति !

50
2460

अथ महावेधकथनम्।

loading...

रूपयौवनलावण्यं नारीणां पुरुषं विना। मूलबन्धमहाबन्धौ महावेधं विना तथा ॥२१॥
महाबन्धं समासाद्य उड्डीनकुम्भकं चरेत्। महावेधः समाख्यातो योगिनां सिद्धिदायकः ॥२२॥

अथ महावेधस्य फलकथनम्।

महाबन्धमूलबन्धौ महावेधसमन्वितौ । प्रत्यहं कुरुतेयस्तु स योगीयोगवित्तमः ॥२३॥
न च मृत्यु भयं तस्य न जरा तस्य विद्यते। गोपनीयः प्रयत्नेन वेधोऽयं योगिपुंगवैः ॥२४॥

विधि :

  1. पद्मासन की स्थिति में बैठ जाएँ |
  2. मूल बन्ध लगाकर श्वास अन्दर भर लें एवं दोनों हथेली दृढ़तापूर्वक जमीन में स्थिर करके हाथों के बल शरीर को जमीन से उपर उठा लें |
  3. इसी स्थिति में ऐसी भावना करें कि प्राण इड़ा पिंगला नाड़ी को छोड़कर कुण्डलिनी शक्ति को जगाता हुआ सुषुम्ना नाड़ी में प्रवेश कर रहा है |
  4. मूल बन्ध खोलकर श्वास को धीरे-धीरे बाहर निकालते हुए सामान्य स्थिति में आ जाएँ |

सावधानियां :

आराम से जितनी देर कुम्भक कर सकें उतनी देर ही मुद्रा लगायें , जबरदस्ती न करें |

मुद्रा करने का समय व अवधि :

प्रातः – सायं खाली पेट इस आसन मुद्रा को करें |प्रारंभ  5 बार से करके धीरे-धीरे  21 बार तक बढ़ाएं |

चिकित्सकीय लाभ :

  • महावेध मुद्रा से कब्ज,बबासीर,भगन्दर जैसे रोग नष्ट हो जाते हैं |
  • यह आसन मुद्रा पुरुषों के धातुरोग और स्त्रियों के मासिकधर्म सम्बंधी रोगों में बहुत ही लाभकारी है।
  • महावेध मुद्रा करने से वीर्य शुद्ध होकर स्तम्भन शक्ति बढती है |

आध्यात्मिक लाभ :

  • महावेध मुद्रा से साधक की कुण्डलिनी शक्ति जाग्रत होने लगती है |
  • प्राणों का सुषुम्ना नाड़ी में प्रवेश करने से समस्त चक्रों का जागरण होता है जिससे साधक अनेक सिद्धियों से युक्त हो जाता है |

50 COMMENTS

  1. I see your page needs some fresh & unique content.
    Writing manually is time consuming, but there is solution for this hard task.
    Just search for – Miftolo’s tools rewriter

  2. Ӏ got this wѡeb site from my pal who informed me regarding this site and now
    this time I am visiting this site and reading very informattive articles or rеviews here.

  3. TҺɑt is reallʏ interestіng, You’re ɑ vefy skilled blogger.
    I have joined oᥙr rss feed аnd sit սp foг in qᥙеst of moгᥱ օf your magnificent post.
    Alѕo, I’ve shared your websote in mу social networks

  4. I haѵe Ьen surfing on-line greater tһan 3 hourѕ lately, ƅut I by no
    means found any interesting article ⅼike yours. Ιt іs lovely wlrth sufficient f᧐r me.
    Personally, if aall site owners аnd bloggers mɑԁe excellent content as you prⲟbably ⅾіd, the
    web ⅽan bee mսch more սseful tһɑn ever bеfore.

LEAVE A REPLY