Ayurveda

Ayurveda

    रोगो को समूल नष्ट करने में सहायक – पंचकर्म थेरेपी

    आयुर्वेद संहिताओं में रोगोपचार की दो विधियॉ बताई गई हैः शोधन शमन शोधन चिकित्सा : इसमें शारीरिक व्याधियों के कारक...

    गुणकारी जामुन

    एसिडिटी  एसिडिटी होने पर जामुन का भूने हुए चूर्ण में काला नमक मिलकर  सेवन करने से एसिडिटी में लाभ मिलता है। ...

    इन औषधियों से आप अपना वजन बढ़ा सकते हैं

    अदरक : अदरक स्वाद में अत्यधिक  तीखा होता है। यह एक आसानी से मिलने वाली औषधि है। इसका प्रयोग  भी पाचन क्रिया को ठीक...

    अलसी के फायदे

    ऊर्जा, स्फूर्ति व जीवटता प्रदान करता है। तनाव के क्षणों में शांत व स्थिर बनाए रखने में...

    इलायची के रोगनिवारक गुण

    झुर्रियां एवं चेहरे की चमक :  इलायची एक अच्छा एंटीआक्सीडेंट है। इसीलिए इससे रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है एवं चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पड़ती तथा...

    वीर्य विकार – घरेलू उपचार

    मूत्र में धातु का आना एवं वीर्य सम्बन्धी अन्य विकारों का सरल घरेलू उपचार -   अनार के छिलके, कत्था और मिश्री को 5-5 ग्राम...

    गाय के घी के चिकित्सकीय गुण

    कब्ज :   गौ घृत -अमृत समान है  | गाय के घी का नियमित सेवन करने से एसिडिटी व कब्ज की...

    नीम के औषधीय प्रयोग

    नीम भारतीय मूल का एक सदाबहार वृक्ष है। इसका स्वाद तो कड़वा होता है लेकिन इसके फायदे तो अनेक और बहुत प्रभावशाली है। आईये...

    दाद का घरेलू उपचार

    शरीर की त्वचा पर कहीं भी चकत्ते हो तो उस पर नींबू के टुकड़े काटकर फिटकरी भरकर रगड़ने से चकत्ते हल्के पड़ जाते हैं...

    यदि आप गर्दन,कमर,घुटनों के दर्द से परेशान हैं तो – एक बार इसे अवश्य...

    आयुर्वेद चिकित्सा में एक क्रिया होती है जिसे वस्ति कहते हैं | वस्ति हड्डियों के जोड़ों की सूजन एवं दर्द के लिए अत्यंत लाभदायक...