1. कामसूत्र के विषय में जानकारी

1. कामसूत्र के विषय में जानकारी

    3. त्रिवर्ग प्रतिपत्ति प्रकरण

    श्लोक (1)- शतायुवैं पुरुषों विभज्य कालमन्योन्यानुबद्धं परस्परस्यानुपघातकं त्रिवर्ग सेवेत।। अर्थ- शांत जीवन बिताने वाला मनुष्य अपने पूरे जीवन को आश्रमों में बांटकर धर्म, अर्थ, काम...

    2. विद्या समुदेश प्रकरण

    श्लोक-1. धर्मार्थाग्ङविद्याकालाननुपरोधयन् का्मसूत्रं तदग्ङविद्याश्च पुरुपोऽधीयीत 1।। अर्थ- अर्थशास्त्र, धर्मशास्त्र और इनके अंगभूत शास्त्रों के अध्ययन के साथ ही पुरुष को कामशास्त्र के अंगभूत शास्त्रों का...