कब्ज -जानिए इसका कारण एवं निवारण

146
1855
loading...

सारी दुनिया भाग-दौढ़ की जिन्दगी में उलझी हुई है। आधुनिकता की चकाचैंध में सारी दुनिया एक दूसरे को ढकेलती हुई आगे बढ़ जाना चाहती है। आधुनिकता की चकाचैंध और दिन रात की भाग दौढ़ इन दोनों ने ही हमारे स्वास्थ्य पर बहुत ही बुरा प्रभाव डाल रखा है। सभी चिकित्सा शास्त्री चिन्तित हैं, कैसे इसका निदान किया जाये। 95 प्रतिशत भारतीय किसी न किसी रोग से पीड़ित दिख रहे हैं। मोटापा, रक्तचाप, मधुमेह, हृदय-दोर्बल्य आदि से प्रायः सभी भयभीत हैं। छोटे-छोटे किशोरावस्था के बच्चे तक इन भयंकर रोगों से पीड़ित दिखने लगे हैं। छोटी उम्र में ही आंखों पर चश्मों ने अधिकार जमा लिया है। शायद ही ऐसा कोई भाग्यशाली व्यक्ति हो जो कोष्ठबद्धता से मुक्त हो। इस कोष्ठबद्धता ने हम सवों को अपने शिकंजे में जकड़ लिया है।

स्वास्थ्य की चिन्ता तो हम सब करते ही हैं और करनी भी चाहिए पर शायद ही कोई समझता है कि स्वास्थ्य है क्या? स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है? मानव शरीर के विभिन्न संस्थानों की सुर-ताल और लय-युक्त संगीत की स्वर लहरी के समान अहर्निश कार्यरत रहने का नाम को ही स्वास्थ्य कहा जायेगा। मानव शरीर के विभिन्न संस्थानों में मुख्यतः श्वसन-संस्थान, संचलन संस्थान, पाचन संस्थान, वाहिर्गमन संस्थान और तंत्रिका संस्थान है। इसके अतिरिक्त और भी छोटे-मोटे कई संस्थान हैं- में सभी संस्थान आपस में ताल-मेल बिठाकर एक दूसरे का सहयोग करते हुए अहर्निश कार्यरत हैं। समझने के लिए एक छोटा सा उदाहरण लें- श्वसन संस्थान यानि नासिका ग्रन्थ से श्वास लेना-छोड़ना इसकी सामान्य गति है प्रति मिनट 18, चिकित्सा भाषा में मायोग्लोबिन एक शब्द आता है जो रक्त का परिचायक है, इसकी औसत संख्या है 290, तुलनात्मक दृष्टि से यदि देखें तो श्वास की गति 18 प्रति मिनट , नाड़ी की गति 72 और मायोग्लोबिन की गति 290 अर्थात 18:72:290 तो इसका अनुपात हुआ 1: 4: 16 ये अनुपात स्वस्थ्यता का परिचायक है अर्थात यह सारे संस्थान ताल-मेल बिठाकर एक दूसरे का सहयोग करते हुए चल रहे हैं यही स्वस्थ्यता का परिचायक है। इसमें तनिक भी असंतुलन हमारे शरीर को रोग ग्रस्त बनायेगा। नाड़ी की गति कम हुई तो चिन्ताजनक, अधिक हुई तो भी चिन्ताजनक। श्वास की गति कम या अधिक भी चिन्ताजनक, मायोग्लोबिन, हेमोग्लोबिन, केलेस्ट्राॅल कम याा अधिक हुई तो ये भी चिन्ताजनक।

संतुलन कैसे बिठायी जाये इन सभी संस्थानों का आपस में ताल-मेल बिठाना- ये हमारे शरीर का कार्य है। प्रकृति ने हमारे शरीर की संरचना बहुत ही अद्भुत और सुनियोजित ढंग से कर रखी है। हमारा मानव-शरीर स्व-निर्मित है, भले ही मां-बाप ने बीज-रोपण किया हो। यह शरीर स्वयं पोषित है, गर्भ में मानव-शिशु अपना विकास स्वयं करता रहता है। मानव शरीर स्वयं संरक्षित है, अन्दर की गन्दगी स्वयं बाहर निकालते रहती है किन्तु बाहर की गन्दगी शरीर में प्रवेश नहीं कर पाती। इस तरह प्रकृति ने इसे स्वयं संरक्षित कर रखा है।

यह शरीर स्वयं नियंत्रित है। शरीर के टूटन-फूटन का यह स्वयं मरम्मत कर लेता है। शरीर को सुगठित बनाये रखने में सुव्यवस्थित एवं स्वस्थ रखने के निमित प्रकृति की अपनी बहुत सुन्दर प्रणाली है यहां, किन्तु हम हैं कि अपनी बुद्धि और स्वभाव से इसके साथ कोई सहयोग नही कर पा रहे हैं। अपने गलत आहार-बिहार से शरीर को अस्वस्थ बना देते हैं, रोगीी बना देते हैं, फलस्वरूप कोष्ठबद्धता हमें तोहफे के रूप में मिल जाता है।

जब शौच को जायें, गोल आकार के पीले रंग के तीन चार गठे हुए मल के टुकड़े बैठते ही बाहर आ जाये और गुदा के बाहर आजू-बाजू मल का कोई अंश न रह जाये और दो-तीन मिनट पश्चात हम शौच से निवृत हो बाहर आ जाये तो यह सूचित करता है कि वो व्यक्ति स्वस्थ है। हम सभी विचार करें कि क्या यह लक्षण मुझमें परिलक्षित होता है, यदि नहीं, तो हम अस्वस्थ हैं, रोगी हैं। वैसे प्रायः हम सभी केष्ठबद्धता के शिकार हैं ही। कुछ लोग इसे बीमारी नहीं मानते पर है ये सभी बीमारियों की मूल जड़। हरनिया, बबासीर, भगन्दर, कोलाइटीज, गैस की शिकायत, पेट दर्द, सर दर्द इन सभी के पीछे कोष्ठबद्धता एक मात्र कारण है।

भोजन करने के तरीके यदि हम जान लें तो कोष्ठबद्धता हमें कभी नहीं सतायेगी। भोजन करने वाले चार प्रकार के लोग होते हैं- एक तो स्वाद के लिये भोजन करते हैं, यह स्वाद बुद्धि वाले कहे जाते हैं, दूसरे पुष्टि बुद्धि वाले होते हें, जो शरीर के पोषण हेतु आहार लेते हैं, तीसरे प्रसाद बुद्धि वाले होते हैं, भक्त लोग जो भोजन को प्रसाद रूप में ग्रहण करते है और चौथे साधन बुद्धि वाले होते हैं शरीर को जितनी और जैसी आवश्यकता है मात्र उतना ही वो आहार लेते हैं। ये साधन बुद्धि वाले होते हैं। शरीर की साधना और अपनी दिनचर्या की भी साधना। स्वाद-बुद्धि, पुष्ट-बुद्धि और प्रसाद बुद्धि वाले जो आहार लेते हैं प्रायः ये सभी रोगी होते हैं, कोष्ठबद्धता से ग्रसित रहते हैं।

कोष्ठबद्धता से मुक्त होने के लिए प्रायः हम सभी लोग नित्य प्रति औषधियों का सेवन करते हैं- ये औषधियां घोड़ों पर चाबुक मारने की तरह काम करती हैं। आन्तिरिक अंश-अव्यवों को अपने प्रभाव में लेकर मल-मूत्र का त्याग कराती है। औषधियां जब तक सेवन करते हैं, पेट कुछ साफ हो जाता है पर पूर्ण रूप से नहीं। औषधियों का सेवन बन्द होते ही पूर्व स्थिति बनी रहती है।

कुछ लोग पेट साफ करने के निमित्त जुलाब लेते हैं- यह एक तेज दवा होता है जिसका बराबर प्रयोग करते रहने से हमारा शरीर के मल- निःसारण यंत्र शिथिल एवं निष्क्रिय होते जाते हैं, जिसका शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। कुछ लोग नशीली चीजों का प्रयोग पेट साफ करने के लिये जैसे- तम्बाकू, बीड़ी-सिगरेट, चाय काॅफी आदि। ये सभी बुरी आदतें हैं। एक बार लत पड़ गई तो फिर छूट्ती नहीं। इसका दुःष्प्रभाव समस्त शरीर पर होता है और हम जिन्दगी भी दुखी रहते हैं।
अन्य कारणों में असंतुलित भोजन का लेना, बिना भूख भोजन करना और यदा-कदा ठूँस-ठूँस कर खाना ये कोष्ठबद्धता लाता है, हाजमा बिगड़ जाता है।

कोष्टबद्धता से पीड़ित रोगी तली-भुनी चीजों को अथवा तेल-घी से बनी चीजों का प्रयोग कम से कम करें। जलेबी एवं अन्य मीठी वस्तुओं से परहेज करें। अधिक उम्र वाले दाल का प्रयोग न करें। रेशेदार हरी सब्जियां एवं फलों का सेवन अधिक करें। मैदे से बनी चीजें तो इनके लिए वर्जित है। भोजन के समय जल का सेवन न करें। भोजन से एक घंटा पूर्व अथवा बाद यथेष्ट मात्रा में जल का सेवन करें। प्रातःकाल बस्ति-क्रिया अवश्य करें।

यदि हम सभी योग का सहारा लें तो केवल केष्ठबद्धता ही नहीं, अन्य भयंकर रोगों से भी मुक्ति मिल सकती है। यदा-कदा प्रातः काल वस्ति-क्रिया का प्रयोग करें। प्रातः-सायं आसन-प्राणायाम आधा घंटा करें और यथेष्ट मात्रा में शुद्ध जल का सेवन करें। आसनों में त्रिकोणासन, अर्द्धकटि-आसन, कटि-चक्र-आसन, पाद हस्त आसन, भुजंग आसन, मयूर आसन, सर्वांग आसन आदि प्रत्येक एक-दो मिनट किया करें। प्राणायाम में अनुलोम-विलोम, भात्रिका, कपालभाति और अग्निसार क्रिया ये नित्य करना।

विचार हमेशा सकारात्मक होना चाहिए, नकारात्मक नही। सूर्योदय एवं एक-आध घंटा शुद्ध हवा में 4-5 किलो मीटर टहलना सेहत के लिए अत्यंत लाभदायक है और इसके साथ यदि भ्रमण-प्राणायाम जोड़ दिया जाये तो सोने में सुहागा।

चन्द्रभान गुप्त (योगाचार्य)
वृन्दावन (उ0प्र0)

146 COMMENTS

  1. 883889 900053Youre so proper. Im there with you. Your weblog is surely worth a read if anyone comes throughout it. Im lucky I did because now Ive obtained a entire new view of this. I didnt realise that this concern was so critical and so universal. You completely put it in perspective for me. 356843

  2. I simply want to say I am very new to blogs and certainly liked this web blog. Very likely I’m want to bookmark your website . You definitely have wonderful well written articles. Bless you for sharing with us your website.

  3. Google

    We like to honor several other internet web sites on the internet, even though they aren’t linked to us, by linking to them. Underneath are some webpages worth checking out.

  4. digital marketing

    […]we prefer to honor a lot of other world wide web websites around the web, even if they aren’t linked to us, by linking to them. Underneath are some webpages really worth checking out[…]

  5. packaging materias

    […]Wonderful story, reckoned we could combine some unrelated information, nonetheless actually really worth taking a look, whoa did one particular master about Mid East has got additional problerms as well […]

  6. Sarasota accident doc

    medical professional daniel m barr of west coast wellbeing north port fl cures auto injuries from auto accidents. He has a complete treatment facility for car accident pain. Medical professional Barr has an unique whiplash treatment.

  7. Hey! Someone in my Facebook group shared this website with us so I came to give it a look. I’m definitely loving the information. I’m bookmarking and will be tweeting this to my followers! Great blog and brilliant design.

  8. MetroClick specializes in building completely interactive products like Photo Booth for rental or sale, Touch Screen Kiosks, Large Touch Screen Displays , Monitors, Digital Signages and experiences. With our own hardware production facility and in-house software development teams, we are able to achieve the highest level of customization and versatility for Photo Booths, Touch Screen Kiosks, Touch Screen Monitors and Digital Signage. Visit MetroClick at http://www.metroclick.com/ or , 121 Varick St, New York, NY 10013, +1 646-843-0888

  9. MetroClick specializes in building completely interactive products like Photo Booth for rental or sale, Touch Screen Kiosks, Large Touch Screen Displays , Monitors, Digital Signages and experiences. With our own hardware production facility and in-house software development teams, we are able to achieve the highest level of customization and versatility for Photo Booths, Touch Screen Kiosks, Touch Screen Monitors and Digital Signage. Visit MetroClick at http://www.metroclick.com/ or , 121 Varick St, New York, NY 10013, +1 646-843-0888

  10. Have you ever considered creating an ebook or guest authoring on other sites? I have a blog based upon on the same information you discuss and would really like to have you share some stories/information. I know my viewers would value your work. If you are even remotely interested, feel free to send me an e-mail.

  11. strap ons

    […]although web-sites we backlink to beneath are considerably not connected to ours, we really feel they may be truly really worth a go via, so have a look[…]

  12. Hey, you used to write magnificent, but the last few posts have been kinda boring… I miss your super writings. Past several posts are just a bit out of track! come on!

  13. wonderful points altogether, you simply received a new reader. What would you recommend in regards to your post that you made a few days ago? Any sure?

  14. You can certainly see your skills within the work you write. The arena hopes for even more passionate writers such as you who aren’t afraid to mention how they believe. At all times follow your heart. “What power has law where only money rules.” by Gaius Petronius.

  15. I together with my pals ended up analyzing the nice tactics found on your site then unexpectedly came up with a horrible feeling I never expressed respect to the web blog owner for those strategies. Most of the young boys were very interested to study all of them and have now surely been taking advantage of them. Thank you for truly being very thoughtful and then for going for some magnificent tips most people are really eager to understand about. My honest apologies for not expressing gratitude to you sooner.

  16. I will right away seize your rss feed as I can’t in finding your e-mail subscription link or e-newsletter service. Do you’ve any? Please permit me recognise so that I may subscribe. Thanks.

  17. Great – I should certainly pronounce, impressed with your site. I had no trouble navigating through all the tabs as well as related info ended up being truly simple to do to access. I recently found what I hoped for before you know it in the least. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those who add forums or anything, site theme . a tones way for your client to communicate. Nice task.

  18. The subsequent time I read a blog, I hope that it doesnt disappoint me as a lot as this one. I mean, I know it was my option to learn, however I truly thought youd have something interesting to say. All I hear is a bunch of whining about one thing that you could repair if you werent too busy searching for attention.

  19. hello!,I really like your writing very so much! share we keep in touch more approximately your article on AOL? I require a specialist in this area to resolve my problem. Maybe that is you! Taking a look forward to see you.

  20. Just desire to say your article is as astonishing. The clarity in your post is simply excellent and i can assume you are an expert on this subject. Fine with your permission allow me to grab your feed to keep updated with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the gratifying work.

  21. Hi there, just changed into aware of your weblog thru Google, and located that it is truly informative. I’m going to watch out for brussels. I’ll appreciate when you continue this in future. Lots of other people will be benefited out of your writing. Cheers!

  22. you are in point of fact a just right webmaster. The website loading pace is incredible. It kind of feels that you’re doing any distinctive trick. Also, The contents are masterwork. you’ve performed a magnificent activity in this topic!

  23. Its like you read my mind! You appear to know a lot about this, like you wrote the book in it or something. I think that you can do with some pics to drive the message home a little bit, but instead of that, this is great blog. A great read. I will certainly be back.

  24. certainly like your web site however you have to test the spelling on several of your posts. A number of them are rife with spelling issues and I in finding it very bothersome to inform the reality nevertheless I¡¦ll surely come again again.

LEAVE A REPLY